सुप्रीम कोर्ट ने दिए राजनीतिक दलों को निर्देश,कहा- उम्मीदवारों का आपराधिक ब्यौरा वेबसाइट पर डालें

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने राजनीतिक दलों को निर्देश देते हुए कहा है कि अगर वह किसी अपराधी छवि वाले नेता को चुनाव में टिकट देते हैं तो उनके बारे में अपनी वेबसाइट पर यह बताएं कि आखिर में उन्होंने आपराधिक छवि वाले व्यक्ति को टिकट क्यों दिया।सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि राजनीतिक पार्टियों को 48 घंटे के भीतर अपनी वेबसाइट और सोशल मीडिया पर विवरण अपलोड करना अनिवार्य होगा। पार्टियों को चुनाव आयोग को 72 घंटे के भीतर ब्यौरा देना होगा।
जन-प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा आठ दोषी राजनेताओं को चुनाव लड़ने से रोकती है। लेकिन ऐसे नेता जिन पर केवल मुकदमा चल रहा है, वे चुनाव लड़ने के लिए स्वतंत्र हैं। भले ही उनके ऊपर लगा आरोप कितना भी गंभीर है। जन-प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा आठ(1) और (2) के अंतर्गत प्रावधान है कि यदि कोई विधायिका सदस्य (सांसद अथवा विधायक) हत्या, दुष्कर्म, अस्पृश्यता, विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम के उल्लंघन, धर्म, भाषा या क्षेत्र के आधार पर शत्रुता पैदा करना, भारतीय संविधान का अपमान करना, प्रतिबंधित वस्तुओं का आयात या निर्यात करना, आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होना जैसे अपराधों में लिप्त होता है, तो उसे इस धारा के अंतर्गत अयोग्य माना जाएगा और छह वर्ष की अवधि के लिए अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा।

ई-पत्रिका

धर्म

Scroll Up