हमें बेटियों का मान बढ़ाना चाहिए : भूमि पेडनेकर

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) अपनी आगामी फिल्म ‘सांड की आंख’ (Saand Ki Aankh) की रिलीज की तैयारी में व्यस्त हैं। भूमि का मानना है कि महिलाओं के प्रति असमानता का मुद्दा आज भी एक ज्वलंत वास्तविकता है। हालांकि भूमि को उम्मीद है कि बेटियों का मान बढ़ाने और जिस हिसाब से लोग बेटियों के बारे में सोचते हैं उसे कुछ हद तक यह फिल्म बदल पाएगी। भूमि ने कहा, ” ‘सांड की आंख’ महिलाओं के प्रति समानता की तह तक बात करता है। जब से हम याद कर सकते हैं तब से महिलाएं देश में असामनता का सामना कर रही हैं। हमारे देश में इस रूढ़िवादी सोच को कुछ साहसी और दृढ़ महिलाओं ने खत्म किया है। इन महिलाओं ने एक क्रांति शुरू की।”

उन्होंने आगे कहा, “और कुछ ऐसा ही तोमर बहनों ने किया। अनजाने में, वह एक ऐसी प्रणाली का हिस्सा थे जो उन्हें किसी भी तरह का कोई अवसर प्रदान नहीं करती थी क्योंकि ये समाज भलाई नहीं चाहती थी, लेकिन वे ऐसा अपनी बेटियों और पोतियों के लिए नहीं चाहती थी।”

ई-पत्रिका

धर्म

Scroll Up