Swati Maliwal Case: कौन हैं स्वाति मालीवाल? जिनके मामले में केजरीवाल ने साधी चुप्‍पी

Swati Maliwal Case: कौन हैं स्वाति मालीवाल? जिनके मामले में केजरीवाल ने साधी चुप्‍पी

Swati Maliwal Case:  स्‍वाती मालीवाल इस समय खबरों की सुर्खियों  में हैं. आम आदमी पार्टी की राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल ने सीएम अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव विभव कुमार पर बदसलूकी का आरोप लगाया है. जिनको दिल्‍ली पुलिस ने अभी उनको पुलिस हिरासम में ले लिया है. इसका एक वीडियो भी शुक्रवार को सामने आया. वीडियो दिल्ली सीएम हाउस का है. जिसके बाद दिल्ली पुलिस शुक्रवार शाम को अरविंद केजरीवाल  के घर पहुंची और सीन रीक्रिएट किया.

इधर, आम आदमी पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर स्वाति मालीवाल के आरोपों को बेसलेस बताया और पूरे मामले को BJP की साजिश बताया. दूसरी ओर, बिभव कुमार ने इस मामले में देर शाम क्रॉस FIR दर्ज कराई. इस बीच सवाल है कि आखिर सीएम केजरीवाल के घर पर किस बात को लेकर झगड़ा हुआ? साथ ही केजरीवाल ने क्‍यों साधी है चुप्‍पी.

भ्रष्‍टाचार के खात्‍मे को लेकर आंदोलन से उपजी आप पार्टी हर उन बुराईयों से घिरती नजर आ रही है, जिसके उन्‍मूलन को लेकर वो अस्तित्‍व में आई.

दिल्‍ली सूबे के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल कथित शराब घोटाला मामले में अंतरिम जमानत पर जेल से बाहर हैं. जबसे वो जेल से बाहर आए हैं, वो और उनके सरकार के मंत्री, प्रधानमंत्री मोदी पर तानाशाह होने का आरोप लगा रहे हैं.

पर जब बात स्‍वाती मालीवाल पर हुए हमले की आती है तो वह चुप्‍पी साधे नजर आते हैं. जिस कांग्रेस के घोटालों को दिखाकर वो जनता के सामने ईमानदारी का ढोंग करते थे, आज उसी कांग्रेस के साथ वो चुनाव में नजर आ रहे हैं.

Swati Maliwal Case: क्‍या है मामला

13 मई की सुबह 9:00 बजे स्वाति मालीवाल, अरविंद केजरीवाल से मिलने उनके सिविल लाइंस स्थित सीएम हाउस पहुंचीं. ऑफिस में स्वाति ने CM के पर्सनल सेक्रेटरी बिभव कुमार को कॉल किया, लेकिन उन्होंने कॉल रिसीव नहीं की. फिर स्वाति ने बिभव कुमार के वॉट्सऐप पर मैसेज किया. इसका रिप्लाई नहीं आया. इसके बाद वो सीएम आवास की ओर चली गईं. वहां मौजूद स्टाफ से उन्होंने CM केजरीवाल तक मैसेज भिजवाया कि वे उनसे मिलना चाहती हैं.

स्टाफ ने उनसे कहा कि सीएम कुछ देर में मिलेंगे, तब तक ड्राइंग रूम में बैठकर इंतजार करें. FIR के मुताबिक, स्वाति इंतजार कर ही कर रही थीं कि अचानक बिभव कुमार वहां आए और उनपर चिल्लाने लगे. स्वाति का आरोप है कि बिभव कुमार ने बदसलूकी की. उन्हें 7-8 थप्पड़ मारे. पेट और सीने पर लात मारी.

Ayodhya Loksabha seat 2024: अयोध्‍या में क्‍या राम लहर से पूरा होगा पीएम मोदी का 400 पार

उनका सिर सेंट्रल टेबल पर दे मारा. इस दौरान उनकी शर्ट के बटन खुल गए. वो किसी तरह खुद को छुड़ाते हुए सोफे पर बैठ गईं. फिर 112 डायल किया. कुछ देर बाद लोकल पुलिस और SHO अपनी टीम के साथ सीएम आवास के पास पहुंचे. पुलिस ने बताया कि प्रोटोकॉल की वजह से पुलिस CM आवास के अंदर नहीं गई. घटना के तीसरे दिन दिल्ली पुलिस की एक टीम ने स्वाति मालीवाल ने करीब 4 घंटे पूछताछ की और FIR दर्ज किया.

Swati Maliwal Case: मेडिकल रिपोर्ट में हुई चोट की हुई पुष्टि

इस मामले में स्‍वाती मालीवाल का मेडिकल हुआ, जिसमें उनकी आंख, चेहरे और पैर में चोट की पुष्टि हुई है. स्वाति मालीवाल की मेडिकल रिपोर्ट में साफ है कि उनके बाएं पैर में चोट आई है. दाहिनी आंख के नीचे भी चोट के निशान मिले हैं. वह जब मेडिकल कराने के लिए अस्पताल पहुंची थीं तो उन्होंने बताया उनके सिर में भी चोट लगी है.

Swati Maliwal Case: कौन हैं स्‍वाती मालीवाल

स्वाति मालीवाल की पढ़ाई एमिटी इंटरनेशनल स्कूल से हुई है. उन्होंने JSS एकेडमी ऑफ टेक्निकल एजुकेशन से इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी से बी.टेक किया है. इसके बाद उन्होंने एक मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी भी की. नौकरी छोड़कर वो सीएम केजरीवाल के एनजीओ ‘परिवर्तन’ में काम करने लगीं. इसके बाद उन्होंने अन्ना हजारे के आंदोलन में हिस्सा लिया था.स्वाति करीब 15 साल से सीएम केजरीवाल से जुड़ी हुई हैं. जब केजरीवाल ने आईआरएस की नौकरी छोड़कर एनजीओ शुरू किया तब स्वाति उनके साथ थीं.

Swati Maliwal Case: आम आदमी पार्टी की नहीं हैं सदस्‍य

2013 में अस्तित्‍व में आई आप को स्‍वाती मालीवाल ने उस समय छोड़ दिया था. साल 2015 में जब आम आदमी पार्टी दिल्ली की सत्ता में आई तो स्वाति वापस लौट आईं और अरविंद केजरीवाल ने 2015 में उनको दिल्ली महिला आयोग का अध्यक्ष बना दिया. 9 साल तक महिला आयोग की अध्यक्ष रहने के बाद इसी साल (2024) जनवरी में आम आदमी पार्टी ने स्वाति मालीवाल को राज्यसभा के लिए नामांकित किया और राज्यसभा भेजा. दिलचस्प बात ये है कि इस दौरान स्वाति मालीवाल ने कभी भी आम आदमी पार्टी की सदस्यता नहीं ली.

 

Related Articles

Back to top button