Home » ISRO लॉन्च करेगा मोबाइल कम्युनिकेशन सैटेलाइट GSAT-6A, ये है खासियत

ISRO लॉन्च करेगा मोबाइल कम्युनिकेशन सैटेलाइट GSAT-6A, ये है खासियत

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) आज जीएसएलवी-एफ-08 को लॉन्च करने जा रहा है। इस सैटेलाइट को श्री हरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से लॉन्च किया जाएगा। इसकी उल्टी गिनती शुरु हो चुकी है। इसे आज शाम 4:56 बले अंतरिक्ष भेजेगा। यह सैटेलाइट 10 साल काम करेगा।

भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए इस प्रक्षेपण की अहमितय को इस बात से समझा जा सकता है कि यह अपने साथ जीसैट-6ए कम्युनिकेशन सैटेलाइट को अंतरिक्ष में लेकर जा रहा है। अंतरिक्ष एजेंसी के अनुसार, इस उपग्रह को भारतीय रॉकेट जियोसिनक्रोनस उपग्रह प्रक्षेपण यान (जीएसएलवी-एफ08) द्वारा कक्षा में स्थापित किया जाएगा। इसरो ने कहा कि जीसैट-6 की तरह ही जीसैट-6ए है।

यह उपग्रह विकसित प्रौद्योगिकियों के प्रदर्शन के लिए एक मंच प्रदान करेगा, जिसमें 6एम एस-बैंड अनफ्लेरेबल एटीना, हैंडहेल्ड ग्राउंड टर्मिनल व नेटवर्क प्रबंधन प्रौद्योगिकी शामिल हैं। ये उपग्रह आधारित मोबाइल संचार अनुप्रयोगों में उपयोगी हैं। इसरो के चेयरमैन के सिवन ने आईएएनएस से कहा कि जीसैट-6ए के बाद एक नेविगेशन उपग्रह का प्रक्षेपण किया जाएगा।

GSAT-6A की खासियत?
आई-2के बस: इसे इसरो ने ही बनाया है। यह सैटेलाइट को 3119 वॉट पावर देता है।

एंटीना: छह मीटर व्यास वाला। सैटेलाइट में लगने वाले सामान्य एंटीना से तीन गुना चौड़ा है।

एस-बैंड: यह मोबाइल की 4-जी सर्विस के लिए इस्तेमाल किया जाता है। यह मौसम की जानकारी देने वाले रडार, शिप रडार, कम्युनिकेशन सैटेलाइट में भी इस्तेमाल होता है।

– मोबाइल कम्युनिकेशन में मदद करेगा। इसे सेना के इस्तेमाल के हिसाब से भी डिजाइन किया गया है।

ई-पत्रिका

मनोरंजन

धर्म