राफेल डील : संसद के बाहर विपक्ष का प्रदर्शन, सरकार के खिलाफ ऐसे जताया विरोध

नई दिल्ली। राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर शुक्रवार को संसद के बाहर विपक्ष सांसदों ने हंगामा मचा रखा है। सोनिया गांधी भी विपक्ष के साथ मिलकर इसका विरोध कर रही है। केन्द्र सरकार के खिलाफ विपक्ष नेता काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन करते हुए नारेबाजी कर रहे है। विपक्ष ने मांग की है कि राफेल सौदे पर जेसीपी बने। वहीं इससे पहले गुरुवार को लोकसभा में राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर कांग्रेस सांसदों के हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही बाधित हुई। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खडगे ने शून्य काल में यह मामला उठाया और कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता किया गया।
सरकार फ्रांस के साथ हुए राफेल करार मामले में देश को गुमराह कर रही है। खडगे ने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के कार्यकाल में प्रति विमान 526 करोड़ रुपए का करार किया गया था। उन्होंने कहा कि लेकिन अब विमान की कीमत तीन गुना बढकर 1600 करोड़ रुपए प्रति विमान हो गई है।
उन्होंने कहा कि राफेल 45,000 करोड़ रुपये का देश का सबसे बड़ा घोटाला है। हम इस मामले में संयुक्त संसदीय समिति गठित करने की मांग करते हैं। खडगे के बयान के बाद कांग्रेस के सभी नेता तख्तियां लेकर लोकसभा अध्यक्ष के आसन के समक्ष पहुंच गए और ‘लोगों और सदन को गुमराह करने’ का आरोप लगाया और ‘राफेल पर एक जेपीसी गठित करने’ की मांग की।

ई-पत्रिका

धर्म

विचार

Scroll Up