गर्मी में चाहिए सर्दी का एहसास तो निकल पड़िए इन जगहों की सैर पर

बच्चों की गर्मी की छुट्टियां शुरू हो चुकी है और सूरज की तपिश भी चरम पर है ऐसे में चाहकर भी आप घर से बाहर निकलने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं, जो हम आपको बताने जा रहे हैं देश की कुछ ऐसी जगहों के बारे में जहां तपती गर्मी में भी आपको ठंडक का एहसास होगा।

हेमकुंड साहिब 
हेमकुंड साहिब को गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब जी भी कहा जाता है। यह सिखों का प्रमुख तीर्थस्थल है। हेमकुंड साहिब उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है। यह इलाका ग्लेशियर झील से घिरा हुआ है और यहां तक आने के लिए आपको 13 किलोमीटर पैदल चलना होगा उसके बाद खच्चर से आगे यात्रा करनी होती है। यहां आकर आपको गर्मी में भी ठंडी का एहसास होगा, वैसे भी ठंड के मौसम में यह बर्फ से पूरी तरह ढंक जाता है।
द्रास 
द्रास सेक्टर का नाम तो शायद आपने सुना ही होगा। यह कारगिल से करीब 62 किलोमीटर दूर है। द्रास बेहद खूबसूरत और ठंडा शहर। इसे ‘लदाख का प्रवेश द्वार’ भी कहा जाता है। नेशनल हाइवे-1 पर शानदार सड़क है, जहां आप हसीन नज़ारों के बीच यात्रा का आनंद ले सकते हैं। यह शहर अपने प्राकृतिक दृश्य के लिए मशहूर है।
लेह 
यह लद्दाख की राजधानी है और अपनी कुदरती सुंदरता कीवजह से लोगों का पंसदीदा पर्यटन स्थल है। दूर-दूर से लोग यहां की संस्कृति, परंपरा और सुंदर नज़ारों को देखने आते हैं। यहां कभी गर्मी नहीं होती, पूरे साल तापमान करीब 7 डिग्री से ज़्यादा नहीं होता। गर्मी के मौसम में यह घूमने के लिए बेस्ट जगह है।
हेमिस 
पहाड़ों की सैर और खूबसूरती देखने के लिए लद्दाख सभी के बीच में मशहूर है लेकिन कुछ अनजानी जगहों में से एक जम्‍मू और कश्‍मीर का यह छोटा सा कस्‍बा भी प्राकृतिक सौंदर्य से भरा हुआ है।यहां का तापमान भी बहुत सौम्‍य रहता है।बस 4 से 21 डिग्री के बीच।
कारगिल
आतंकी गतिविधियों की वजह से चर्चा में रहने वाला जम्मू-कश्मीर का खूबसूरत क्षेत्र कारगिल बेहद ठंडा इलाका है। सिंधु नदी के साथ स्थित इस इलाके का तापमान ठंड के मौसम में -48 डिग्री तक पहुंच जाता है। इसलिए यहां लोग गर्मी में ही आ सकते हैं। कारगिल के पास ही सैर के लिए एक ऐतिहासिक धरोहर पाशकुम और बौद्धिक गांव मूलबेक भी है।
तवांग 
अरुणाचल प्रदेश का ये छोटा सा शहर तवांग रंग-बिरंगे घरों और खूबसूरत झरनों के लिए मशहूर है। यहां की हरी-भरी वादियां मन को शांति देने के साथ ठंडक का एहसास कराती है। मई-जून की चिलचिलाती धूप से राहत पाने के लिए आप यहां आकर सुकून के पल बिता सकते हैं।

ई-पत्रिका

धर्म

Scroll Up