U-19 खिलाडिय़ों की हरकत से नाराज हैं कपिल-अजहर, BCCI से की सख्त कार्रवाई की मांग

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के दो पूर्व कप्तान कपिल देव और मोहम्मद अजहरुद्दीन विश्व कप फाइनल में अंडर-19 टीम के खिलाडिय़ों के प्रदर्शन से बेहद निराश हैं। फाइनल में भारतीय टीम के खिलाड़ी बांग्लादेश की अंडर-19 टीम के खिलाडिय़ों से उलझ गए थे। सेनवेस पार्क में रविवार को खेले गए फाइनल में बांग्लादेश ने डकवर्थ लुइस नियम के हिसाब से भारत को तीन विकेट से हरा दिया था। इसके बाद दोनों टीमों में वाकयुद्ध छिड़ गया था।

द हिंदू ने कपिल के हवाले से लिखा है, मैं चाहता हूं कि बोर्ड (बीसीसीआई) इन खिलाडिय़ों के खिलाफ सख्त कदम उठाए और एक उदाहरण पेश करे। क्रिकेट का मतलब विपक्षी टीम को गाली देना नहीं है। मैं इस बात को लेकर आश्वस्त हूं कि बीसीसीआई के पास इन युवाओं के साथ डील करने का पुख्ता कारण है। विश्व विजेता कप्तान ने कहा कि मैं आक्रामकता का स्वागत करता हूं, इसमें कुछ गलत नहीं है, लेकिन इसमें नियंत्रण होना चाहिए।

प्रतिस्पर्धी होने के लिए आप सीमा लांघ नहीं सकते। मैं कहूंगा कि यह मानने योग्य बातें नहीं हैं कि युवा इस तरह का व्यवहार करें। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने तीन बांग्लादेशी और दो भारतीय खिलाडिय़ों को निलंबित किया है। बांग्लादेश के तौहीद हृदॉय, शमीम हुसैन, रकीबुल हसन के नाम शामिल हैं, जबकि भारत की तरफ से आकाश सिंह और रवि बिश्नोई को भी सजा मिली है।

अजहर ने भी कपिल की बात पर सहमति जाहिर की है। उन्होंने कहा, मैं अंडर-19 टीम के खिलाडिय़ों के खिलाफ कार्रवाई चाहता हूं, लेकिन मैं साथ ही जानना चाहता हूं कि इन युवाओं को सिखाने में सपोर्ट स्टाफ का क्या रोल रहा था। देर हो इससे पहले कदम उठाने होंगे। इन खिलाडिय़ों को अनुशासित रहना होगा।

ई-पत्रिका

धर्म

Scroll Up