धर्म बदलकर मुस्लिम शख्‍स ने की थी हिंदू लड़की से शादी, SC ने कहा, ‘निष्ठावान पति बनो, न की…’

नई दिल्‍ली : छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) से अंतर्विवाह का मामला एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) तक पहुंच गया. दरअसल, पिछले साल इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने लड़की से मुलाकात की थी और उसने मुस्लिम व्यक्ति की बजाय अपने माता-पिता को चुना था. इस मुस्लिम शख्‍स ने छत्तीसगढ़ में उक्‍त लड़की से शादी करने के लिए हिंदू धर्म अपना लिया था.

सुप्रीम कोर्ट ने माना कि वे अंतर-विवाह विवाहों से विरुद्ध नहीं है. उन्होंने कहा कि उच्च जाति और निम्न जाति के बीच विवाह “समाजवाद” के लिए अच्छा है. न्यायाधीशों ने कहा कि वे केवल लड़कियों के हितों की रक्षा के लिए ऐसे मामलों को देखेंगे.

लेकिन इस साल की शुरुआत में लड़की ने छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट (Chhattisgarh High Court) से कहा कि अब वह अपने पति के साथ रहना चाहती है. इसके बाद लड़की के पिता ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और इस विवाह को एक दिखावा और रैकेट का नतीजा बताया.

सुप्रीम कोर्ट ने इस मुस्लिम शख्‍स से कहा, एक निष्ठावान पति बनें, न कि केवल एक महान प्रेमी. आपने आर्य समाज मंदिर में अपनी शादी के लिए अपना नाम बदल लिया? क्या आपने नाम बदलने के लिए कानूनी कदम उठाए हैं?

ई-पत्रिका

धर्म

Scroll Up