Home » पीएनबी घोटाला : CBI-ED की बड़ी कार्रवाई, चीफ मैनेजर समेत 3 बड़े अधिकारी गिरफ्तार

पीएनबी घोटाला : CBI-ED की बड़ी कार्रवाई, चीफ मैनेजर समेत 3 बड़े अधिकारी गिरफ्तार

 

नई दिल्ली : 11500 करोड़ के पीएनबी घोटाले में आज सोमवार को भी छापेमारी की कार्रवाई जारी रही. पंजाब नेशनल बैंक की नवी मुंबई स्थित ब्रैडी हाउस ब्रांच में नीरव मोदी ने इस घोटाले की पटकथा लिखी गई थी. सीबीआई तथा प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी आज दिनभर इस ब्रांच में कागजों को खंगाते रहे और अधिकारी तथा कर्मचारियों से पूछताछ करते रहे. छापेमारी की यह कार्रवाई देर रात तक जारी रही.

जांच अधिकारियों ने इस ब्रांच को रविवार को ही अपने कब्जे में ले लिया था. घोटाले के सिलसिले में तीन अधिकारियों को गिरफ्तार किया है. इस मामले में अब तक छह गिरफ्तारियां हो चुकी हैं. गिरफ्तार किए गए अधिकारियों के घरों पर भी छापेमारी जारी है. सीबीआई ने हीरा कारोबारी नीरव मोदी की कंपनी के दूसरे चीफ फाइनेंस ऑफिसर रवि गुप्ता को पूछताछ के लिए समन भेजा है. उधर, सीबीआई नीरव मोदी के सीएफओ विपुल अंबानी से भी पूछताछ कर रही है. चीफ विजिलेंस कमिश्नर ने पंजाब नेशनल बैंक के सीएमडी सुनील मेहता से भी पूछताछ की है. वित्त मंत्रालय के एडिशनल सेक्रेटरी रवि मित्तल भी इस पूछताछ के सिलसिले में सीवीसी ऑफिस पहुंचे.

ब्रैडी हाउस ब्रांच से गिरफ्तार किए गए अधिकारियों में मुख्य प्रबंधक बेच्चू तिवारी, यशवंत जोशी और प्रफुल्ल सावंत शामिल हैं. सीबीआई ने बैंक से 10 कंप्यूटर और बड़ी मात्रा में फाइल तथा अन्य दस्तावेज अपने कब्जे में लिए हैं. सूत्रों ने बताया कि बेच्चू तिवारी ने गोकुलनाथ शेट्टी पर कार्रवाई नहीं की थी. शेट्टी के खिलाफ पर्याप्त सबूत होने के बाद भी उसके खिलाफ कार्रवाई नहीं की थी.

बेच्चू तिवारी पीएनबी की विदेशी मुद्रा सेवा विभाग के मुख्य प्रबंधक हैं. यशवंत जोशी भी इसी विभाग में स्केल-1 ऑफिसर तथा प्रफुल्ल सावंत इसी विभाग में सेल्स मैनेजर हैं. सीबीआई ने पीएनबी की डोंबिवली और अंधेरी ब्रांच में भी छापेमारी की और बड़ी मात्रा में दस्तावेज बरामद किए.

क्या है पीएनबी घोटाला
देश के बैंकिंग इतिहास के सबसे बड़े फ्रॉड में से एक पंजाब नेशनल बैंक के 11,500 करोड़ रुपये के घोटाले के खुलासे के बाद डायमंड किंग नीरव मोदी और गीतंजलि जेम्स के प्रमोटर मेहुल चौकसी के खिलाफ सीबीआई की तरफ से शिकायत के बाद एफआईआर दर्ज की गई है. नीरव मोदी और मेहुल चौकसी इस घोटाले का मुख्य आरोपी हैं और उसे देखते ही पकड़ने के लिए लुकआउट नोटिस भी जारी किया जा चुका है. विदेश मंत्रालय ने नीरव मोदी और मेहुल चौकसी का पासपोर्ट निलंबित कर दिया है और इनके विदेश के आउटलेट्स पर भी कारोबार न करने का आदेश दिया जा चुका है.

सीबीआई ने रविवार को बैंक अफसरों और नीरव मोदी की कंपनी के अधिकारियों से पूछताछ की. सीबीआई ने सबसे ज्यादा देर तक यानी 5 घंटे तक नीरव मोदी के करीबी और धीरूभाई अंबानी के भतीजे विपुल अंबानी से पूछताछ की. दरअसल, विपुल अंबानी, फायरस्टार इंटरनेशनल यानी नीरव मोदी की कंपनी के मुख्य वित्त अधिकारी (CFO) हैं. विपुल अंबानी ही वह शख्स हैं जो कंपनी के वित्तीय लेनदेन की पूरी जानकारी रखते थे. विपुल रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी के चचेरे भाई हैं. सीबीआई गीतांजलि समूह की 18 सहायक कंपनियों की बैलेंस शीट भी जांच रही है. सीबीआई ने इसके अलावा पीएनबी के 10 सस्पेंड कर्मचारियों से 8 घंटे से ज्यादा पूछताछ की.

देशभर में छापेमारी
करोड़ों रुपये के इस घोटाले के सिलसिले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रविवार को देश के 15 शहरों की 45 जगहों की तलाशी ली. बेंगलुरु में 10 जगहों पर, दिल्ली में सात जगहों पर, कोलकाता और मुंबई में पांच-पांच जगहों पर, चंडीगढ़ और हैदराबाद में चार-चार जगहों पर, पटना और लखनऊ में तीन जगहों पर, अहमदाबाद में दो जगहों पर और चेन्नई व गुवाहाटी में एक-एक जगहों पर एजेंसी ने छापेमारी की. ईडी के एक अधिकारी ने बताया कि गोवा, जयपुर, श्रीनगर और जालंधर में भी इस मामले में छापेमारी की गई.

ई-पत्रिका

मनोरंजन

धर्म