मालदीव संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का सदस्य बनने से चूका

संयुक्त राष्ट्र। आंतरिकअशांति और मानवाधिकारों के उल्लंघन के आरोपों से जूझ रहे मालदीव को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एशिया सीट के लिए इंडोनेशिया से हार का सामना करना पड़ा। इंडोनेशिया को दो-तिहाई बहुमत के लिए जरूरी 127 से अधिक 144 वोट मिले जबकि मालदीव को सिर्फ 46 वोट ही मिले। इस साल एशिया की पांच में से सिर्फ एक ही सीट थी।
अफ्रीका सीट पर दक्षिण अफ्रीका निर्वाचित हुआ, लैटिन अमेरिका और कैरीबियाई क्षेत्र में डोमिनिकन गणराज्य ने बाजी मारी जबकि पश्चिमी यूरोप और अन्य समूह की सीटों में बेल्जियम और जर्मनी का चुनाव हुआ। निर्वाचन के लिए संयुक्त राष्ट्र महासबा के 193 सदस्य देशों में दो-तिहाई वोट मिलना जरूरी होता है।

सभी निर्वाचित सदस्यों का चुनाव 2019 और 2020 दो वर्षों के लिए हुआ है। सुरक्षा परिषद की 10 अस्थाई सीटों में से पांच पर हर साल चुनाव होता है। डब्ल्यूईओजी क्षेत्र से इजरायल ने ऐलान किया था कि वह दो में से एक सीट पर चुनाव लड़ेगा जबकि यह स्पष्ट होने पर कि उसे पर्याप्त वोट नहीं मिलेंगे उसने अपनी दावेदारी वापस ले ली। सुरक्षा परिषद में कजाकिस्तान के स्थान पर इंडोनेशिया का चुनाव हुआ है। परिषद में अन्य अस्थाई एशिया सदस्य कुवैत है।

ई-पत्रिका

धर्म

विचार

Scroll Up