अमेरिका के साथ शिखर वार्ता से पहले उत्तर कोरिया परमाणु परीक्षण स्थलों को करेगा नष्ट

नई दिल्ली: अमेरिका के साथ शिखर वार्ता से पहले उत्तर कोरिया अपने परमाणु परीक्षण स्थलों को नष्ट करेगा. उत्तर कोरिया ने कहा है कि आमंत्रित विदेशी मीडिया के सामने इन सुरंगों को उड़ा दिया जाएगा. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक समारोह में पुंग्ये – री परीक्षण स्थल को नष्ट करने के उत्तर कोरिया के फैसले की सराहना की है. यह समारोह 23 से 25 मई के बीच निर्धारित किया गया है.  ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘‘आपका शुक्रिया! आपने बहुत अच्छा संकेत दिया है.’’ दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया के नेताओं की बातचीत के बाद उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन और ट्रंप के बीच सिंगापुर में 12 जून को एक शिखर बैठक होनी है.

इससे पहले पिछले साल तक अमेरिका और उत्तर कोरिया एक दूसरे का अपमान करते थे और जंग की धमकियां देते थे. जानकारों ने चेताया है कि उत्तर कोरिया ने अबतक अपने हथियारों को नष्ट करने के बारे में सार्वजनिक रूप से टिप्पणी नहीं की है. इन हथियारों में ऐसी मिसाइलें भी शामिल हैं जो अमेरिका तक पहुंचने में सक्षम हैं. अमेरिका उत्तर कोरिया को पूरी तरह से परमाणु मुक्त देखना चाहता है और उसने इसकी सत्यता पर जोर दिया है.  पुंग्ये – री देश के उत्तरपूर्वी हिस्से में स्थित है और उत्तर कोरिया के सभी छह परमाणु परीक्षण यहीं हुए थे. इसमें सबसे अहम पिछले साल सितंबर में किया गया परीक्षण भी शामिल है जिसके बाद उत्तर कोरिया ने दावा किया था कि यह हाइड्रोजन बम है. किम यह पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि उत्तर कोरिया का परमाणु कार्यक्रम पूरा हो चुका है और इस स्थल की और जरूरत नहीं है.

सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए के मुताबिक, उत्तर कोरिया के विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि जो नए उपाय किए गए हैं उसके मुताबिक, परीक्षण स्थल को नष्ट कर दिया जाएगा और प्रवेश द्वार को उड़ा कर उसे पूरी तरह से बंद कर दिया जाएगा. इस घटनाक्रम को चीन, रूस, अमेरिका, ब्रिटेन और दक्षिण कोरिया के संवाददाताओं को कवर करने की इजाजत होगी , ताकि इसकी पारदर्शिता को दिखाया जा सके. उन्होंने विदेशी पत्रकारों की सीमित संख्या का कारण जगह की किल्लत बताई है क्योंकि यह पहाड़ी इलाके में जमीन से नीचे है. दक्षिण कोरिया ने उत्तर कोरिया की इस घोषणा का स्वागत करते हुए कहा कि यह उत्तर कोरिया के संकल्पों को पूरा करने की इच्छा का संकेत है. वह सिर्फ शब्दों में नहीं कह रहा है बल्कि इसके लिए कार्रवाई भी कर रहा है.

ई-पत्रिका

धर्म

विचार

Scroll Up