सत्ता में रहें या न रहें लेकिन भ्रष्टाचार और सांप्रदायिकता से समझौता नहीं करेंगे : नीतीश कुमार

पटना: बिहार में अंबेडकर जयंती के मौके पर पर सभी दलों ने अपने-अपने कार्यक्रम आयोजित किए. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता दल यूनाइटेड द्वारा आयोजित कार्यक्रम में साफ़-साफ़ शब्दों में कहा कि वह भ्रष्टाचार, अपराध और सांप्रदायिकता से कोई समझौता नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि वह सत्ता में रहें या ना रहें, लेकिन जो बुनियादी सिद्धांत हैं उससे कभी समझौता नहीं करेंगे.नीतीश के तेवर से साफ़ हैं कि फ़िलहाल जिस तरह उन्होंने लालू यादव के भ्रष्टाचार से समझौता नहीं किया उसी तरह अगर अब उनकी सत्ता में सहयोगी भाजपा के लोगों ने सांप्रदायिक तनाव को सह दिया तो भी वह बर्दाश्त नहीं करेंगे. हालांकि दलित सम्मेलन में उनके भाषण का अधिकांश समय अपने कार्यकर्ताओं को इस बात का भी भरोसा दिलाना था कि आरक्षण कोई ख़त्म नहीं कर सकता.इस सम्मेलन में जनता दल के कई नेताओं ने जिनमें श्याम रज़क प्रमुख रहे उन्होंने कहा कि दलितों का हक मारा जा रहा है. इसपर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि धरती पर ऐसी कोई ताक़त नहीं है कि आरक्षण ख़त्म कर दे. जब तक धरती है इस प्रावधान को कोई ख़त्म नहीं कर सकता.
नीतीश कुमार ने अपने कार्यकाल की चर्चा करते हुए कहा कि जब वो सता में आये थे तब दलितों के ऊपर मात्र 40 करोड़ का बजट था जो आज बढ़कर 1000 करोड़ से अधिक हो गया है. उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को बार-बार कहा कि जैसे धरती पर समय-समय पर बवंडर आता है वैसे राजनीति में भी तूफ़ान आता रहता है. इसके लिए ज़्यादा चिंतित होने की ज़रूरत नहीं है.

ई-पत्रिका

धर्म

विचार

Scroll Up