बंगला विवाद: अखिलेश यादव ने कहा- मैं टोंटी लौटाने को तैयार हूं

एसपी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने बंगला विवाद को लेकर प्रेस कांफ्रेस की. बंगले को उजाड़ देने के आरोप पर सफाई देते हुए अखिलेश यादव ने कहा, ”लोग प्यार में अंधे हो जाते हैं पर यहां लोग जलन और नफरत में अंधे हो गए हैं”.  अखिलेश ने कहा कि जानबूझकर बंगले की गलत तस्वीरें खींची गई और उन्हें फैलाया गया. मैंने बंगले को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया है. मैने उसे अपनी पसंद से बनवाया था. अखिलेश ने कहा सरकार हमें गायब हुई टोटियों का हिसाब दे दे मैं सारी टोटी वापस करने को तैयार हूं. कमरों की वुड फ्लोरिंग वैसी ही है. मैं बस जांच रिपोर्ट का इंतजार कर रहा हूं.मैंने बंगले में सारी चीजें अपनी पसंद और अपने पैसे से लगवाई थी. अखिलेश ने चुनौती देते हुए कहा कि वहां लगे सामानों का या तो सरकार मुझे बिल दे या फिर हमारा सामान वापस करे. अखिलेश ने कहा सरकारी इनवेंट्री में अगर एक भी चीज गायब हो तो मुझे बताएं,  मैं उसकी भरपाई करूंगा. मैं अपने साथ बस अपनी चीजें लेकर आया हूं. हमारी बहुत सी चीजें अब भी वहां पड़ी हैं अखिलेश ने कहा मेरे बंगले में स्विमिंग पुल की अफवाह उड़ाई गई, कहा गया कि मैंने उसमें मिट्टी भरवा दी. मेरे बंगले में कहीं भी कोई स्विमिंग पुल नहीं है. आज के पहले जो भी लोग मेरे बंगले में आए थे उनसे पूछिए क्या उन्होंने कभी मेरे बंगले में कोई पुल देखा था. अखिलेश ने कहा,” गूगल अर्थ है उसमें सर्च करके देखो कहा था स्विमिंग पुल”. आपको सच्चाई जाननी हो तो आप मेरी फेसबुक प्रोफाइल देखें आपको सच का पता चल जाएगा.अखिलेश ने कहा कि हम मट्ठा और पेड़ा नहीं खाते हम ब्लैक कॉफी पीते हैं. हम एक्सप्रेस-वे बनाना चाहते हैं और वो चाहते हैं गाय के गोबर के पीछे-पीछे चला जाए.अखिलेश ने कहा कि बीजेपी गोरखपुर और फूलपुर की हार सहन नहीं कर पा रही है इसलिए ये सब कारनामे कर रही है. अखिलेश ने कहा अपमान करने वालों को जनता सबक सिखाएगी.एक्सप्रेस-वे पर बोलते हुए अखिलेश ने कहा सरकार कागज पर नहीं चलती उसके लिए काम करना पड़ता है. बता दें कि आरोप-प्रत्यारोप के बीच समाजवादी पार्टी के एमएलसी सुनील यादव ने कहा था कि अखिलेश यादव के बंगले में तोड़फोड़ सीएम योगी के आदेश पर हुई है. उन्होंने कहा कि उपचुनावों में हार से हताश मुख्यमंत्री इस मुद्दे के जरिए जनता के बीच अखिलेश यादव की छवि खराब करना चाहते हैं.
बता दें कि यह बंगला तीन बंगलों को तोड़ कर बनाया गया था. यह मुलायम सिंह यादव के बंगले से भी बड़ा था. अखिलेश और उनका परिवार इस बंगले को बहुत पसंद करता था.
ऐसा कहा गया था कि  स्वीमिंग पूल को कंक्रीट और सीमेंट से भर दिया गया है, रसोई में लगे इटालियन मार्बल उखाड़ दिए गए हैं और बाथरूम की फिटिंग्स उखाड़ दी गईं. यहां तक कि इस बंगले में विदेशी टाइल्स, जिम और विदेशी पौधों को सरकारी खर्च पर लगाया गया था उन्हें भी उजाड़ दिया गया.
अखिलेश यादव ने इसे अपने मुख्यमंत्री रहते ही बनवाया था, इसको भव्य रूप देने और साज सज्जा में दो बार में 42 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे.

 

ई-पत्रिका

धर्म

विचार

Scroll Up