117 साल बाद महाशिवरात्रि के दिन बनेंगे ये ‘शुभ योग’

नई दिल्ली: हिंदू धर्म में भगवान शिव पर लोगों की बहुत आस्था है. इसलिए देवों के देव महादेव को खुश करने वाला आस्था से परिपूर्ण महाशिवरात्रि का व्रत सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है. बता दें कि इस साल की महाशिवरात्रि बहुत ही खास है, क्योंकि करीब 117 साल बाद शनि और शुक्र का दुर्लभ योग होगा. वैसे तो शिवरात्रि (चतुर्दशी) हर माह आती है मगर फाल्गुन मास में आने वाली महाशिवरात्रि कुछ ज्‍यादा ही खास होती है. बता दें कि इस साल महाशिवरात्रि 21 फरवरी (शुक्रवार) को मनाई जाएगी.

ज्‍योतिषियों के अनुसार, इस साल शिवरात्रि पर शनि अपनी राशि मकर में होगा. वहीं शुक्र अपनी उच्च राशि मीन में होगा. इसे एक दुर्लभ योग माना जाता है. दो बड़े ग्रहों का इस स्थिति में रहना काफी बड़ी बात है. इससे पहले ऐसा योग 25 फरवरी 1903 को बना था. उस दिन भी शिवरात्रि ही थी. इसके अलावा 21 फरवरी यानी महाशिवरात्रि के दिन सर्वार्थ सिद्धि योग भी है. इस साल गुरु भी अपनी राशि धनु में है. इस योग में शिव पूजा करने से शनि, गुरु, शुक्र के दोषों से मुक्ति मिल सकती है. इस साल शिवरात्रि के दिन कोई भी नया काम शुरु करना बेहद ही शुभ होगा. शिवरात्रि के इस शुभ अवसर पर शनि के साथ चंद्र भी रहेगा, जिसकी वजह से विष योग बनेगा. 28 साल पहले शिवरात्रि के दिन विष योग बना था.

ई-पत्रिका

धर्म

Scroll Up