Home राष्ट्रीय 7 साल के भारतीय बच्चे ने रचा इतिहास

7 साल के भारतीय बच्चे ने रचा इतिहास

0 second read
0
0
46

नई दिल्ली : भारत के 7 साल के समन्यु पोथुराजु ने एक ऐसा कारनामा कर दिखाया है, जिससे हर भारतीय का सिर फक्र से ऊंचा हो गया है. समन्यु पोथुराजु ने अफ्रीकी महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी पर फतल हासिल कर देश का नाम रोशन किया है. हड्डियों को जमा देने वाले मौसम में बहादुरी का उदाहरण पेश करते हुए समन्यु ने तंजानिया की माउंट किलिमंजारो की ऊहुरु पर्वत की चोटी पर फतह हासिल कर वहां तिरंगा लहराया है. समन्यु ने इस उम्र पर अफ्रीका की सबसे ऊंची चोटी पर फतह हासिल कर यह दिखाया है कि उम्र हौसलें की उड़ानों को नहीं रोक सकती है. बता दें कि समन्यु अफ्रीका की इस चोटी पर जाने वाले दुनिया के सबसे कम उम्र के पर्वतारोही हैं. वह हैदराबाद के मूल निवासी हैं.

2 अप्रैल को फहराया तिरंगा
रिपोर्ट्स के मुताबिक समन्यु अपने कोच के साथ 2 अप्रैल को इस चोटी पर पहुंचे थे. चोटी पर पहुंचने के साथ ही समन्यु ने अपने बैग ने तिरंगा निकालकर समुद्र तल से 5,895 मीटर ऊंचाई पर फहराया. अपनी इस जीत पर समन्यु ने कहा कि जब वह अपने कोच के साथ उन्होंने चढ़ाई शुरू की थी तब बारिश हो रही थी, रास्ते पत्थरीले जिसको दिखने के बाद उन्हें डर हुआ. उन्होंने कहा कि थोड़ी दूर चलने के बाद ही उनके पैरों में दर्द शुरू होने लगा, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और थोड़ी देर आराम करने के बाद दोबारा से चढ़ाई शुरू.

बर्फ में चलना था पसंद, इसलिए चुनी माउंट किलिमंजारो
समन्यु का कहना है कि उन्हें पत्थरीले रास्तों और बर्फ में चलना काफी पसंद है इसलिए उन्होंने माउंट किलिमंजारो को चढ़ाई के लिए चुना. न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत के दौरान समन्यु ने कहा कि वह साउथ एक्टर पवन कल्याण के फैन हैं और उनकी मां ने उन्हें वादा किया था कि जिस दिन वह विश्व रिकॉर्ड बनाएंगे तो वह उनकी मुलाकात पवन सिंह से करवाएंगी.

अब ऑस्ट्रेलिया पर टिकी हैं निगाहें
अफ्रीका के बाद समन्यु अब ऑस्ट्रेलिया पर निगाहें जमाकर बैठे है. उनका कहना है कि वह अगले महीने ऑस्ट्रेलिया के पीक की चढ़ाई कर विश्व रिकॉर्ड बनाना चाहते हैं. समन्यु की इस उपल्बधी के बाद उनकी मां का कहना है कि वह बहुत खुश हैं क्योंकि उनके बेटे ने रिकॉर्ड बनाकर भारत का नाम रोशन किया. उन्होंने बताया कि समन्यु के कोच के अलावा वह भी इस सफर में उनके साथ थी, लेकिन रास्ते में तबीयत खराब होने के कारण वह रुक गई, लेकिन उनके बेटे ने हार नहीं मानी और आगे बढ़ता चला गया. उनकी मां का कहना है कि समन्यु मई तक 10 चोटियों पर चढ़ाई कर विश्व रिकॉर्ड बनाना चाहता है.

Load More In राष्ट्रीय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

झारखंड में स्वामी अग्निवेश की बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की पिटाई, हिरासत में लिये गये 20 हमलावर

रांची: झारखंड के पाकुड़ जिले में मंगलवार को सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश पर भारतीय ज…